Home » Coronavirus News » Improve Reasoning Skills: जॉब इंटरव्यू हो या कोई एग्जाम, ऐसे बढ़ाएं अपनी रीजनिंग स्किल्स

Improve Reasoning Skills: जॉब इंटरव्यू हो या कोई एग्जाम, ऐसे बढ़ाएं अपनी रीजनिंग स्किल्स

हाइलाइट्स

  • रीजनिंग स्किल्स क्यों है जरूरी?
  • जानें कैसे बढ़ाए रीजनिंग स्किल्स
  • इन टिप्स की जरूर लें मदद

Reasoning Tips And Tricks: हर कोई जानता है कि आज के समय में तार्किक सोच का क्‍या महत्‍व है, स्‍कूल-कॉलेज परीक्षा से लेकर जॉब इंटरव्‍यू तक, हर जगह आपकी तार्किक सोच व क्षमता का मूल्‍यांकन होता है। हालांकि सभी के लिए तार्किक क्षमता को विकसित करना आसान नहीं होता। किसी व्यक्ति के लिए तर्क क्षमता बढ़ती है उसकी एजुकेशन, उसके आसपास की दुनिया की नॉलेज और सोचने की क्षमता पर। आज हम आपको बताएंगे कि परीक्षा की तैयारी या जॉब इंटरव्‍यू से पहले अपनी तार्किक क्षमता को कैसे बढ़ांए।

तार्किक सोच कैसे काम करती है (How logical thinking works)
तार्किक सोच को कैसे विकसित किया जाए, यह समझने से पहले आपको इसके बारे में जानने की जरूरत है। यह एक विचार प्रक्रिया का प्रतिनिधित्व करता है। इसमें, एक व्यक्ति को विशिष्ट अवधारणाओं और परिभाषाओं का उपयोग करना चाहिए। इस मामले में, विभिन्न प्रकार के अनुभव व जानकारी का उपयोग किया जाता है। इन सभी के आधार पर, एक व्यक्ति कुछ निष्कर्ष निकालने में सक्षम होता है। इसलिए, जिन लोगों में अभी तक व्यापक ज्ञान और व्यापक अनुभव नहीं है, उनसे समस्याओं को हल करते समय गलतियां हो जाती हैं।

तार्किक सोच क्‍यों जरूरी (Why logical thinking is necessary)

  1. निर्णय लेने, कार्यों को पूरा करने और निष्कर्ष निकालने में कम समय लगता है।
  2. किसी भी कार्य के दौरान गलती की संभावना कम हो जाती है।
  3. सभी विचार प्रक्रियाओं के स्तर में सुधार होता है।
  4. सीखने की प्रक्रिया या पेशेवर गतिविधि में प्रतिस्पर्धा बढ़ जाती है।
  5. करियर में सफलता मिलने के चांस बढ़ जाते हैं।
  6. मुश्‍किल दौर में भी आप बिना रूके आगे बढ़ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:Graphic Designing: ग्राफिक डिजाइनिंग में चाहिए अच्छी ग्रोथ? जरूर जानें ये टॉप ट्रेंड

कैसे बढ़ाए तार्किक क्षमता (How to improve reasoning ability)

इनोवेशन करें
कभी भी नई चीजों को बनाने की कोशिश बंद न करें, यह तर्क क्षमता को बेहतर बनाने का एक शानदार तरीका है, लोगों को हमेशा नई चीजों को करने की कोशिश करना चाहिए, क्‍योंकि मन एक मांसपेशी है, इसपर जितना भार डालोगे, वह उतना ही विकसित होगी। ऐसी गतिविधियां चुनें, जो एक-दूसरे से बहुत अलग हों, जैसे अगर खाली बैठें हैं तो क्रॉसवर्ड, पहेलियाँ या सुडोकू को सुलझाने की कोशिश करें।

प्रतिदिन व्‍यायाम करें
व्यायाम का शारीरिक गतिविधि, मेमोरी और तर्क पर बहुत प्रभाव पड़ता है। कई अध्ययनों से संकेत मिलता है कि व्यायाम करने वाले लोगों का तार्किक शक्ति अधिक होता है, व्‍यायाम लोगों को एकाग्रता और सीखने की सुविधा प्रदान कर सकता है।

लिखें दैनिक डायरी
अगर आप दैनिक डायरी लिखने की आदत डाल लें तो यह आपकी सोच को सुधारने में मदद कर सकता है। डायरी प्रतिदिन के कार्यों को याद रखने में मदद करने के अलावा, आपके प्रतिबिंब और विचार को प्रोत्साहित करती है। डायरी आपको अधिक आत्मनिर्भर और जागरूक व्यक्ति बना सकती है, जो तर्क में सुधार कर सकता है।
इसे भी पढ़ें:Automobile Engineering: क्यों अच्छा करियर ऑप्शन है ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग, ये हैं हाई सैलरी वाली जॉब्स

नॉवेल व बुक पढ़े
तर्क क्षमता व नॉलेज को सुधारनें के लिए प्रतिदिन नॉवेल व पुस्तकों को जरूर पढ़े। हालांकि, विशेष रूप से नॉवेल जरूर पढ़े, इसमें मौजूद फिक्‍शन आपकी सोच व रचनात्‍मकता को बेहतर बनाएगा।

निर्णय लेने से पहले सोचे
आप जब भी कोई कार्य करने जा रहे हैं, तो उसके उद्देश्य पर ध्यान दें। हम अपने जीवन में गुस्‍से व उत्‍तेजना के साथ कुछ ऐसे निर्णय जरूर लेते हैं, जो हमें नुकसान पहुंचाते हैं, इससे बचें। आप कॉलेज में हो या जॉब पर कोई भी निर्णय लेने से पहले एकबार जरूर सोचें, इससे आपको फायदा मिलेगा। साथ ही अपना लक्ष्‍य निर्धारित करें, जैसे परीक्षा में आप किस पोजिशन पर आना चाहते हैं, जॉब में हैं तो अगले पांच साल में कहां पहुंचना चाहते हैं। इन लक्ष्‍यों को पूरा करने में आने वाली समस्‍याओं को खुद तलाश कर हल करें, ऐसे प्रश्नों के जवाब में आपकी तर्क क्षमता में सुधार होगा।

पक्षपाती झुकाव को दूर करें
अगर आपके अंदर किसी भी तरह का पक्षपात है तो यह आपके तार्किक क्षमता को कमजोर करता है। तर्क क्षमता में सुधार करने के लिए सबसे पहले अपने आप में पक्षपात की पहचान करने की कोशिश करें। इससे उनका निर्णय लेने की क्षमता कमजोर होती है, इससे आप न तो किसी को न्‍याय दिला सकते हैं और न ही खुद आगे बढ़ सकते हैं।


Source link

x

Check Also

Data | COVID-19 not an old man’s disease in poorer nations

Data | COVID-19 not an old man’s disease in poorer nations

Nearly 54% of pandemic-related deaths in lower middle-income countries in 2020 were among people under ...