Home » Hindi » News Hindi » OMG: यहां बच्चों को बिजली के झटके देंगे टीचर, कोर्ट में शिकायत भी नहीं कर पाएंगे मां-बाप

OMG: यहां बच्चों को बिजली के झटके देंगे टीचर, कोर्ट में शिकायत भी नहीं कर पाएंगे मां-बाप

हर मां-बाप का सपना होता है कि जब उनका बच्चा स्कूल जाने की उम्र को हो जाए तो उसका दाखिला अच्छे से अच्छे स्कूल में कराया जाए लेकिन अमेरिका (America) का एक ऐसा स्कूल ऐसा है जहां बच्चे को भेजने से पहले मां-बाप को कम से कम 100 बार सोचना पड़ता होगा.

दरअसल, यूएस (US) के मैसाचुसेट्स (Massachusetts) में स्थित जज रोटेनबर्ग एज्युकेशनल सेंटर (Judge Rotenberg Educational Center) एक ऐसा स्कूल (School) है जहां बच्चों को बिजली के झटके (Electric Shock) दिए जाते हैं. जानकारी के मुताबिक इस स्कूल में दाखिल हुए विकलांग बच्चों के सेल्फ हार्म (Self Harm) करने वाले और मिसबिहेव करने वाले (Misbehave) या आक्रामक व्यवहार को ठीक करने के लिए बिजली के झटके दे कर उनका इलाज (Treatment) किया जाता है. आपको बता दें कि डीआरआई (DRI) यानि डिसेबिलिटी राइट्स इंटरनेशनल (Disability Right International) और तमाम एक्टिविस्ट्स (Activists) ने उपचार के इस तरीके की जमकर आलोचना की.

यह भी पढ़ें- 9 महीने तक घरवालों के साथ ही उठती-बैठती रही महिला, अचानक बनी मां तो सब रह गए हैरान

माता-पिता ने किया इस उपचार का समर्थन

आपको बता दें कि इस तरह के उपचार के खिलाफ लगातार उठ रही बैन लगाने की मांग के चलते इस पर फूड एंड ड्रग एडमिनिस्टेशन (FDI) ने प्रतिबंध लगाया था. हांलाकि, इसके बाद बच्चों के पेरेंट्स (Parents)और अभिभावको ने एफडीआई (FDI) के इस फैसले को चुनौती दी. जिसके बाद संघीय अदालत में इस मामले में सुनवाई के दौरान यह कहा गया कि बच्चों का इस तरह उपचार करना चिकित्सा विधि नियमों के अंदर आता है, जिस पर एफडीआई का कोई अधिकार नहीं है. इसलिए अब इस स्कूल में इलेक्ट्रिक शॉक देने पर से बैन हट गया है. आपको बता दें कि स्कूल का कहना है कि इस तरह के उपचार के कारण कई बच्चे ठीक भी हुए हैं. वहीं बच्चों के माता-पिता का कहना है कि उनके बच्चों को ठीक करने के लिए यह आखिरी तरीका है इसलिए वह इसे जारी रखने के लिए अपनी लड़ाई भी जारी रखेंगे.


Source link

x

Check Also

स्वास्थ्य मंत्रालय ने Covaxin के 2 टीकों के बाद बूस्टर डोज की अफवाह पर लगाया विराम

Image Source : PTI स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि सितंबर महीने से ...